Computer me Virtual RAM kaise Banaye [HINDI] – STEP by STEP

कंप्यूटर में वर्चुअल रैम (Virtual ram) कैसे बनाएं [हिंदी] – स्टेप बाय स्टेप

Virtual RAM, जिसे पेजिंग फाइल के रूप में भी जाना जाता है, हार्ड ड्राइव पर खाली space होती है जिसे कंप्यूटर Actual RAM के विस्तार के रूप में उपयोग करता है। जब कंप्यूटर द्वारा रैम की मेमोरी Full हो जाती है, तो वह इस वर्चुअल मेमोरी को अतिरिक्त स्टोरेज स्थान के रूप में उपयोग करता है। यह हमारे कंप्यूटर के परफॉर्मेंस को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है, क्योंकि यह ऐप्स को तेजी से Run होंने  की Permission देता है। यहां बताया गया है कि आप अपने Windows कंप्यूटर में वर्चुअल रैम कैसे बना सकते हैं:

Virtual RAM बनाने से आपके कंप्यूटर के Performance में सुधार हो सकता है, खासकर यदि आपका कंप्यूटर कम रैम के साथ आता है। हालाँकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि वर्चुअल रैम वास्तविक रैम की तरह Fast नहीं होती है, इसलिए बहुत अधिक आकार सेट करने से आपके कंप्यूटर की समग्र गति प्रभावित हो सकती है। अपनी आवश्यकताओं के आधार पर वर्चुअल रैम का एक Optimal Size निर्धारित करना सबसे अच्छा है।## कंप्यूटर में वर्चुअल रैम कैसे बनाएं [हिंदी] – स्टेप बाय स्टेप

#1 Quantum Computer kya hai

Summary

इस व्यापक गाइड में, हम कंप्यूटर में वर्चुअल रैम बनाने की Detail Process को स्टेप-बाय-स्टेप Guides के साथ समझाएंगे। वर्चुअल रैम आपके कंप्यूटर के Overall Performance को बढ़ाने और बड़े Program or Application को आसानी से चलाने में सक्षम बनाने के लिए  एक Powerful Technique है। यह गाइड आपको इस Process को सफलतापूर्वक पूरा करने और वर्चुअल रैम की क्षमताओं का लाभ उठाने के लिए जरूरी सभी जानकारी प्रदान करेगा।

Virtual RAM बनाने के लिए Important Step

1. कंट्रोल पैनल तक पहुंचें

  • Start menu खोलें और “Control Panel” खोजें।
  • System and Security Option पर क्लिक करें।
  • System Option चुनें।
Create A Virtual RAM in PC
Step 1: System and Security
Virtual RAM
Step 2: System

2. Advance System Setting देखें

  • एडवांस्ड सिस्टम सेटिंग्स पर क्लिक करें।
Virtual RAM step 3
Step 3: Advance System Setting

3. Performance Option चुनें

  • New Windows में, Display Option Tab चुनें।
Step 4: Performance Tab

4. Advance Option पर  Navigate करें

  • Display Option Window के निचले भाग में setting Section में, advance बटन पर क्लिक करें।
Step 5: Advance > Change

5. वर्चुअल मेमोरी Setting edit करें

  • Advance Option Window में, Virtual Memory Section में Change बटन पर क्लिक करें।
Step 6: Change Value

6. Paging File Option चुनें

  • Virtual Memory Window में, Customize option चुनें।

7. Initial Size और Maximum Size Decide करें

  • Initial Size और Maximum size Box में, Virtual RAM के Primary और Maximum Size को Megabyte में Set करें।
Step 7: Set Paging Size

नोट: Recommended वर्चुअल रैम Size आपकी Physical RAM के Size का लगभग 1.5 से 2 गुना होना चाहिए।

8. Changes को Save करें 

  • OK बटन पर क्लिक करके Changes को सहेजें।

9. कंप्यूटर को RESTART करें

  • सिस्टम में CHANGES को APPLY करने के लिए अपने कंप्यूटर को RESTART करें।
Step 8: Restart

वर्चुअल रैम के लाभ

  • Better Performance: वर्चुअल रैम की Extra मेमोरी बड़े Program or Application और Complex Task को चलाने में आपके कंप्यूटर की Performance को बढ़ाती है।
  • अधिक Application चलाना: Extra RAM के साथ, आप एक ही समय में अधिक Application चला सकते हैं बिना किसी Significant Recission का अनुभव किए।
  • बड़ी फ़ाइलों को Handle करना: वर्चुअल रैम बड़े फ़ाइल sizes और Data Intensive Task को संभालने में आपके कंप्यूटर की Performance को बढ़ाती है।
  • Overall System Stability: वर्चुअल रैम आपके कंप्यूटर की Stability को बढ़ाती है, जिससे Crash और Freeze की Probability कम हो जाती है।
  • हार्ड ड्राइव पर Load कम करना: वर्चुअल रैम हार्ड ड्राइव पर Load को कम कर सकती है, जो लंबे समय में हार्ड ड्राइव की Life बढ़ाने में मदद करती है।

वर्चुअल रैम के नुकसान

  • Decrease in Overall Performance: वर्चुअल रैम हार्ड ड्राइव से डेटा को retrieve करने में Physical RAM की तुलना में Slow होती है, जिसके परिणामस्वरूप Performance में मामूली कमी आ सकती है।
  • हार्ड ड्राइव Fault: यदि वर्चुअल रैम अत्यधिक उपयोग की जाती है, तो यह हार्ड ड्राइव की Life को कम कर सकती है और अंततः HDD Failure का कारण बन सकती है।
  • Only Temporary Solution: वर्चुअल रैम Physical रैम का विकल्प नहीं है, और Extra Physical RAM Install करने पर विचार किया जाना चाहिए यदि आप अपने कंप्यूटर के Performance में महत्वपूर्ण सुधार चाहते हैं।

निष्कर्ष

वर्चुअल रैम अपने कंप्यूटर के समग्र प्रदर्शन को बढ़ाने और बड़े Applications को चलाने में सक्षम बनाने के लिए एक शक्तिशाली Technique है। इस Detail Guide का पालन करके, आप Virtual RAM को सफलतापूर्वक बना और Configure कर सकते हैं। जबकि वर्चुअल रैम के कुछ नुकसान हो सकते हैं, जैसे कि मामूली प्रदर्शन हानि, Hard Disk Fault इत्याधि हैं। अपने Physical RAM के आकार से 1.5 से 2 गुना बड़े Virtual RAM Size को Configure करने का सुझाव दिया जाता है, जिससे आप अपने कंप्यूटर का Maximum Benefit उठाते हुए इसके फायदों का Experience कर सकते हैं।

 

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Follow us on social media!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?